Skip to content

कनाडाई सांसद आर्य हुए नाराज, कहा-खालिस्तानी समर्थकों ने कर ली हदें पार

अमेरिका स्थित हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन की एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सुहाग शुक्ला ने सांसद चंद्रा आर्य के बयान पर सहमति जताते हुए लिखा कि हमें तसल्ली है कि इस मामले पर ध्यान दिया गया है और दुनिया प्रतिक्रिया दे रही है। यह अच्छी बात है।

कनाडा में भारतीय मूल के सांसद चंद्रा आर्य।

इंदिरा गांधी की हत्या की बरसी पर जश्न मनाने वाले खालिस्तान समर्थकों के विरोध में अब कनाडा में भारतीय मूल के सांसद चंद्रा आर्य ने भी आपत्ति दर्ज की है। आर्य ने कहा कि हम एक नए निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। हिंसा का महिमामंडन करना और नफरत को सार्वजनिक रूप से बढ़ावा देना हमारे देश के सिद्धांतों के खिलाफ है। यह वह नहीं है जिसके लिए हमारा देश कनाडा खड़ा है।

आर्य ने गुरुवार देर रात ट्वीट करते हुए अपनी वीडियो भी पोस्ट की। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि हाल ही की गई ब्रैम्पटन परेड में खालिस्तान समर्थक घृणा के एक नए निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। खून से लथपथ सफेद साड़ी में भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कटआउट के साथ हत्या का जश्न मनाया गया। उनके अंगरक्षकों के कटआउट के साथ हत्यारों को ब्रांडिंग की गई। यह वह नहीं है जिसके लिए हमारा देश कनाडा खड़ा है।

कनाडा में बढ़ती हिंदू विरोधी और भारत विरोधी नफरत के खिलाफ ठोस कार्रवाई का आह्वान करते हुए सांसद ने अपनी वीडियो में कहा कि हिंसा का महिमामंडन और नफरत को सार्वजनिक रूप से बढ़ावा देना हमारे देश की हर बात के खिलाफ है। खालिस्तान समर्थकों ने एक रेखा पार कर ली है। कनाडा को इसका जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि ये समूह सुसंगठित, अच्छी तरह से वित्त पोषित और राजनीतिक रूप से मजबूत हैं और कनाडा में हिंदू मंदिरों, नेताओं और संगठनों को निशाना बनाते रहे हैं।

अमेरिका स्थित हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन की एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सुहाग शुक्ला ने सांसद चंद्रा आर्य के बयान पर सहमति जताते हुए लिखा कि हमें तसल्ली है कि इस मामले पर ध्यान दिया गया है और दुनिया प्रतिक्रिया दे रही है। यह अच्छी बात है।

बता दें कि भारत में कनाडा के उच्चायुक्त ने भी इस जश्न के वीडियो क्लिप पर प्रतिक्रिया दी थी जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। उस परेड की निंदा करते हुए उन्होंने ट्वीट किया था कि मैं कनाडा में एक कार्यक्रम की खबरों से हैरान हूं, जिसमें दिवंगत भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या का जश्न मनाया गया था। नफरत या हिंसा के महिमामंडन के लिए कनाडा में कोई जगह नहीं है। मैं स्पष्ट रूप से इन गतिविधियों की निंदा करता हूं।

https://twitter.com/HCCanInd/status/1666591799031533568

छह-सेकंड की क्लिप ने भारत में भी काफी आलोचना की गई। भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर सहित कई राजनेताओं ने इसकी आलोचना की। जयशंकर ने कहा था कि वोट बैंक की राजनीति की आवश्यकताओं के अलावा हम समझ नहीं पा रहे हैं कि कोई ऐसा क्यों करेगा। मुझे लगता है कि अलगाववादियों और चरमपंथियों को जो स्थान कनाडा में दिया गया है इससे मुझे लगता है कि यह दोनों देशों के रिश्तों के लिए अच्छा नहीं है और कनाडा के लिए भी अच्छा नहीं है।

#India #Indianabroad #Canada #CanadianPM #ChandraArya #Khalistan #IndiraGandhi #IndiaPM

Comments