Skip to content

ह्यूस्टन में माहेश्वरी समुदाय का अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन, राजस्थानियों ने मचाई धूम

माहेश्वरी महासभा ऑफ नॉर्थ अमेरिका के साउथ वेस्ट चैप्टर की ओर होस्ट किए गए 11वें अंतरराष्ट्रीय माहेश्वरी एवं राजस्थानी सम्मेलन (IMRC) में 900 से अधिक लोग शामिल हुए। सम्मेलन में एक खेत की यात्रा, घूमर नृत्य, संगीतमय शाम, महासंग्राम, महेश टैंक, टैलेंट शो और योग सत्र जैसे कई कार्यक्रम हुए।

टेक्सास में रहने वाले राजस्थान मूल के लोगों ने 11वां अंतरराष्ट्रीय माहेश्वरी एवं राजस्थानी सम्मेलन (IMRC) आयोजित किया। 24 नवंबर को थैंक्सगिविंग वीकेंड पर ह्यूस्टन में स्थित मैरियन मार्किस में ये आयोजन किया गया। इस दौरान माहेश्वरी समुदाय से सदस्य इकट्ठा हुए और रंगारंग कार्यक्रमों के जरिए अपनी संस्कृति का आनंद लिया।

राजस्थानी विदेश युवा समाज ग्रुप

आयोजकों ने बताया कि माहेश्वरी महासभा ऑफ नॉर्थ अमेरिका के साउथ वेस्ट चैप्टर की ओर होस्ट किए गए कार्यक्रम में 900 से अधिक लोग शामिल हुए। इस दौरान विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के लिए करीब 150 वॉलंटियर्स पिछले छह महीने से दिन-रात मेहनत कर रहे थे।

समारोह में 42 से अधिक महिलाओं ने राजस्थानी घूमर नृत्य का प्रदर्शन किया जिसे राधिका सोनी ने निर्देशित किया था।

सम्मेलन की शुरुआत कन्वीनर शरद मंत्री, राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिलाषा राठी, बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज के चेयर घनश्याम हेडा और सह संयोजक अर्चना भक्कड़ व संजय जाजू ने की। गेस्ट ऑफ ऑनर के तौर पर शैलेश लोढ़ा, डॉ. रूमा देवी, कार्तिकेय बलदवा, ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी सिस्टम की चांसलर रेणु खटोर और भारत के कौंसुल जनरल असीम महाजन शामिल हुए।

भगवान एवं संगीता भूतड़ा द्वारा राजस्थानी डेकोरेशन

सम्मेलन के आकर्षणों में एक खेत की यात्रा, राजस्थान का पारंपरिक घूमर नृत्य, संगीतमय शाम, महासंग्राम, महेश टैंक, बच्चों के लिए टैलेंट शो और योग सत्र समेत कई कार्यक्रम शामिल रहे। इस दौरान 150 से अधिक प्रतिभागियों ने ड्रामा और नृत्य के माध्यम से विभिन्न राजस्थानी त्योहारों की झलकियां दिखाईं। दर्शकों ने उनकी प्रस्तुतियों को खुले दिल से सराहा।

महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष राठी ने कहा कि मैं एमएमएलए परिवार का हिस्सा बनकर खुद को भाग्यशाली समझती हूं। मुझे एक राजस्थानी माहेश्वरी होने पर गर्व है। महासभा के संयोजक शरद मंत्री ने बताया कि सम्मेलन के दौरान एमएमएनए की एजुकेशन फाउंडेशन के लिए एक लाख 15 हजार डॉलर (लगभग 93 लाख रुपये) की राशि भी जुटाई गई।

Comments