Skip to content

किसान आंदोलन के वक्त नहीं मिली थी भारत में एंट्री, अब मिलेगा प्रवासी भारतीय सम्मान

अमेरिका के अरबपति और कम्यूनिटी लीडर दर्शन सिंह धालीवाल को साल 2021 में किसान आंदोलन के दौरान भारत में प्रवेश करने से रोक दिया गया था। उस वक्त धालीवाल ने कहा था कि मुझे भारत में उतरने की अनुमति इसलिए नहीं दी गई क्योंकि मैं किसानों के आंदोलन का समर्थन करता रहा हूं।

भारत के इंदौर शहर में 8 से 10 जनवरी तक आयोजित होने वाले प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में दिए जाने वाले प्रवासी भारतीय सम्मान की भारत सरकार ने घोषणा कर दी है। भारत सरकार की तरफ से जारी 27 पुरस्कार विजेताओं की सूची में अमेरिका के अरबपति और कम्यूनिटी लीडर दर्शन सिंह धालीवाल का भी नाम है। यह वही धालीवाल हैं जिन्हें साल 2021 में किसान आंदोलन के दौरान भारत में प्रवेश करने से रोक दिया गया था।

साल 2004 तक उनके पास 11 राज्यों में 1,000 से अधिक गैस स्टेशन थे और उन कंपनी की वार्षिक बिक्री 2 बिलियन डॉलर (9,000 करोड़ रुपये) थी जो उस समय पंजाब के वार्षिक बजट का पांच गुना था।

दरअसल उस वक्त भारत सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली बॉर्डर पर भारी संख्या में किसान धरना दे रहे थे। किसान आंदोलन चरम पर था और धालीवाल मोदी सरकार के विरोध में चल रहे इस प्रदर्शन का समर्थन करने के लिए नई दिल्ली पहुंचे थे। रिपोर्ट्स के अनुसार भारतीय-अमेरिकी दर्शन सिंह धालीवाल 23 अक्टूबर 2021 की शाम नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरे लेकिन उन्हें बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी गई। धालीवाल के पास वैध दस्तावेज भी थे लेकिन दिल्ली हवाई अड्डे पर उनसे कहा गया कि उन्हें बाहर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

This post is for paying subscribers only

Subscribe

Already have an account? Log in