Skip to content

अमीर देशों की नागरिकता लेने में भारतीय अव्वल

दिलचस्प बात ये है कि भारत और कनाडा के राजनयिक रिश्ते भले ही इस वक्त निचले स्तर पर हों, लेकिन कनाडाई नागरिकता देने के मामले में साल 2021 के मुकाबले 2022 में 174 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

वैसे तो भारतीय समुदाय के लोग दुनिया के कोने कोने में फैले हुए हैं, लेकिन बात जब अमीर देशों की नागरिकता लेने की आती है, तब इस मामले में भारतीय सबसे आगे रहते हैं। ओईसीडी देशों की नागरिकता पर एक हालिया रिपोर्ट से यह सामने आई है। ओईसीडी 38 देशों का समूह है, जिसमें दुनिया के तमाम धनी और विकसित देश शामिल हैं।

दिलचस्प बात ये है कि भारत और कनाडा के राजनयिक रिश्ते भले ही इस वक्त निचले स्तर पर हों, लेकिन कनाडाई नागरिकता देने के मामले में साल 2021 के मुकाबले 2022 में 174 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

ओईसीडी के सदस्यों में भारतीयों को सबसे ज्यादा नागरिकता देने वाला देश अमेरिका रहा।

ओईसीडी यानी ऑर्गनाइजेशन फॉर इकोनोमिक कोऑपरेशन डेवलपमेंट की साल 2023 की रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछले साल 28 लाख लोगों ने ओईसीडी देशों की नागरिकता हासिल की थी। यह 2021 के मुकाबले 25 फीसदी ज्यादा है। ये नागरिकता लेने वालों में भारतीयों की संख्या सबसे ज्यादा रही। 2021 में लगभग 1.3 लाख भारतीयों ने ओईसीडी देश की नागरिकता ली थी, जो 2019 में लगभग 1.5 लाख थी। इस लिस्ट में मेक्सिको दूसरा और सीरिया तीसरे नंबर पर रहा।

ओईसीडी के सदस्यों में भारतीयों को सबसे ज्यादा नागरिकता देने वाला देश अमेरिका रहा। इसने 2021 में 56 हजार भारतीयों को अपना नागरिक बनाया। उसके बाद ऑस्ट्रेलिया के 24 हजार और कनाडा के 21 हजार नागरिकों को अमेरिकी सिटिजनशिप दी गई।

Comments