Skip to content

मैं वीजा पर हूं और मेरे पास समय बहुत कम है... US में छंटनी के शिकार भारतीय लगा रहे गुहार

आईआईटी मद्रास से पढ़ी हर्षिता ने पोस्ट में अपना रेज्यूमे शेयर करते हुए सवाल किया कि क्या मैं किसी पोजीशन के लिए फिट हूं? उन्होंने मदद की गुहार लगाते हुए कहा कि मैं वीजा पर हूं और मेरे पास ज्यादा समय नहीं बचा है।

Photo by charlesdeluvio / Unsplash

ट्विटर, मेटा के बाद अब माइक्रोसॉफ्ट जैसी नामी कंपनी ने भी कर्मचारियों पर तगड़ी कैंची चलाना शुरू कर दिया है। माइक्रोसॉफ्ट तकरीबन 10 हजार कर्मचारियों को बाहर करने जा रही है। अचानक से खुद को बेरोजगार पाने वाले तमाम कर्मचारी सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दे रहे हैं और अपनी वीजा समस्या बताते हुए नई नौकरी के लिए गुहार लगा रहे हैं।

इन्हीं में एक हैं भारतीय मूल की हर्षिता झावर। हर्षिता माइक्रोसॉफ्ट के वॉशिंगटन ऑफिस में पिछले चार साल से डाटा एंड एप्लाइड साइंटिस्ट थीं। छंटनी की तलवार चलने के बाद हर्षिता ने लिंक्डइन पर लंबी सी पोस्ट में लिखा, मैं भी छंटनी का शिकार हुई हूं। मैं इस समय वीजा पर हूं और मेरे पास नई नौकरी ढूंढ़ने के लिए बहुत कम समय बचा है। मैं वीजा की बची अवधि में अपने करियर को सही दिशा देने और परिवार की जिम्मेदारियों को पूरा करने की जद्दोजहद से जूझ रही हूं।

This post is for paying subscribers only

Subscribe

Already have an account? Log in